पृथ्वी की जमिन के कितने अन्दर तक छेद कर सकते 

हमारे सौरमण्डल मे पृथ्वी तीसरे नंबर का ग्रह है जो एक मात्र एसा ग्रह है जहाँ पर जिवन सम्भव है.

हमारी यह धरती लगभग 4.54 अरब साल पुरानी है और इतने सालो से काय अलग-अलग तरह के जीव इस धरती पर रहेते आए है.

एक समय था जब पृथ्वी पर भयानक और खतरनाक जंगली जानवरों का निवास था, उस समय पृथ्वी बहोत ही हरि भरी और सुन्दर हुआ करती थी लेकिन dinosaurs के काल के खत्म होने के बाद इन्सानो की उतप्ती हुई और तभी से इन्सानो ने इस धरती पर नए नए Experiment करना शुरु कर दिया.

एसा ही एक Experiment रुस ने सन 1989 में किया था. रुस पृथ्वी के आरपार एक गड्डा खोदन चहता था लेकिन उनको अपना काम सिर्फ 12,262 मीटर की गहराई पर ही रोकना पड़ा था. क्यूंकि इतनी गहराई में तापमान 180 डिग्री तक पहोंच गया था.

लेकिन हमारा सवाल यह है की क्या हम पृथ्वी के आरपार होल कर सकते है? पृथ्वी के कितने आरपार तक छेद कर सकते है? चलिए जानते हैं इस आर्टिकल के माध्यम से.

धरती के कितने अन्दर तक छेद किया जा सकता है? | Pruthvi ke kitne andar tak chhed kar sakte hai?

धरती के कितने अन्दर तक छेद किया जा सकता है? | Pruthvi ke kitne andar tak chhed kar sakte hai?

पृथ्वी के आरपार छेद करने से पहले यह जानना आवस्यक है की पृथ्वी के एक छोर से  दुसरे छोर की दुरी कितनी है? पृथ्वी के एक छौर से दुसरे छौर की दुरी 12,742 किलोमीटर है.

यानी की यदी किसी को पृथ्वी के आरपार छेद करना है तो इसको 12742 किलोमीटर तक खुदाई करनी पड़ेगी जो लगभग नामुमकिन है. क्यूंकि पृथ्वी के सबसे उपर की जो परत है वो भी 70 किलोमीटर की है.

हमारी पृथ्वी का केंद्र 6371 किलोमीटर गहरा है और यदी इतनी गहराई तक हम कोई भी गड्डा खोद सके तो पृथ्वी के उपरी सतह से केंद्र तक पहोंचने में 1 घन्टा 45 मिनिट का समय लगेगा लेकिन हमारी वर्तमान टेक्नोलॉजी इतनी विकसित नही है जो हमे इतना गहरा गड्डा खोदने में मदद कर सके.

यह भी पढ़े:-