Do Trees Talk to Each Other? | पेड़-पौधे आपस में बात करते हैं – जानिए कैसे | Science of Tree Network

पेड़-पौधे आपस में बात करते हैं – जानिए कैसे | Do Trees Talk to Each Other? | Science of Tree Network

हम इन्सान आपस में बात कर सकते है इसमें कोई बड़ी बात नहीं है लेकिन क्या आपको पता है की पेड़-पौधे भी हम इन्सानों की तरह आपस में बात कर सकते है? हम सभी ने स्कूल में यह तो पढ़ा ही था की वृक्ष भी एक सजीव ही है तो क्या वो सच में आपस में बात कर सकते है? Do Trees Talk to Each Other? Do trees have feelings? Do trees communicate with one another? Do trees think?एसे बहुत सारे सवाल हमारे मन में होगा.

पेड़-पौधे आपस में बात करते हैं - जानिये कैसे | Do Trees Talk to Each Other? | Science of Tree Network
अगर में कहू की पानी भी सजीव हे तो आपका क्या Reaction होगा? हम को जरुर आश्चर्य होगा क्योंकि ये सारी बातें हम को स्कूल में पढाई नहीं जाती हे. तो आज इस आर्टिकल में में आपको बताने वाला हु की How trees communicate with each other? क्या सच में पेड़-पौधे आपस में बात करते हैं ?

चलिए जानते है पेड़-पौधे आपस में कैसे बात करते हैं | Science of Tree Network

हम सभी ने बचपन में स्कूल में पढ़ा था की इस दुनिया में दो तरह की चीजे होती है Living beings and Non-Living beingsयानि की सजीव और निर्जीव. हम सब को पता है की पेड़ सजीव है लेकिन पेड़ आपस में बात करते है यह बात हजम नहीं होती है. अगर पेड़ पौधे बात करते है तो क्या कोई जीवित प्राणी या इन्सान की तरह इसमें भी feelings होती है? क्या उन्हें भी चोट लगती है? क्या इसे भी दर्द होता है? इस जंगल को काला वन क्यों कहा जाता हे ?
एक बड़े जंगल के Scientific Research के दोरान वैज्ञानिको को यह पता चला की पेड़ पौधे के अन्दर भी भावनाए होती है उसमे भी सामाजिक स्किल्स होते है. वो हमेसा आपस में discussion करते रहेत है.
जब आप जंगल से गुजार रहे होते हो तब आपके पैरो के निचे पेडॉ की जड़ो के बिच में बात चित चल रही होती है. आपको इस बातचीत का एक शब्द भी नहीं सुनाई देता है. क्यूंकि पेड़ आपस में कोई भाषा से बात नहीं करते है पर एक चीज से बात करते है जिसे Electrical Impulse कहेते है.
पेड़ के जो रूट्स होते है इसके जरिये यह Electrical Impulse यानि की सिग्नल ट्रान्सफर होती है. इन्टरनेट के कनेक्शन की तरह पेड़-पौधे के बिच में भी एक कनेक्शन होती है. जमीन के अन्दर पेड़ की जड़े चारो तरफ फैली होती है. जेसे जेसे पेड़ बड़ा होता है वेसे वेसे एक पेड़ की जड़ दुसरे पेड़ की जड़ से कनेक्ट होती जाती है. ऊपर से देखने पर आपको सभी पेड़ एक दुसरे से अलग अलग नजर आयेगे लेकिन वो सभी पेड़ अपनी जड़ की मदद से आपस मे एक दुसरे के साथ जुड़े हुए होते है.

दुनिया का सबसे खतरनाक और रहस्यमय जंगल

एक पेड़ सिर्फ अपने बगल वाले पेड़ से ही नहीं बल्कि अपने से 200 मीटर की दुरी वाले पेड़ से भी बात कर सकता है. लेकिन अब सवाल आता हे की इतनी दुरी पर एक पेड़ दुसरे पेड़ तक अपना मेसेज ट्रांसफर कैसे कर सकता होगा? यह ठीक इसी तरह होता है जेसे हम लाइन में खड़े पहेले इन्सान से लाइन में खड़े लास्ट इन्सान तक कोई चीज पहोचाते हे. इसी तरह पेड़ भी अपना मेसेज अपने बगल वाले पेड़ को ट्रान्सफर करता है और इस तरह से सभी पेड़ एक दुसरे को मेसेज ट्रान्सफर करके उस पेड़ तक पहुचाते हे जिस पेड़ को मेसेज भेजना हे.
इस बात से पता चलता है की एक पेड़ ही नहीं पर पूरा जंगल आपस में एक दुसरे से जुडा होता है. अब एक और सवाल मने आ रहा होगा की आखिर पेड़-पौधे क्या बात करते होगे? रीसर्च में वैज्ञनिको को जितना पता चला इसके हिसाब से ज्यादातर बाते वृक्ष के जिन्दा रहेने से related होती है. यह लोग जीवन के लिए जरुरी चीजो के लिए मेसेज ट्रान्सफर करते हे. जैसे की अगर किसी पेड़ को पानी की कमी हो रही होती है तो वो दूसरे पेड़ से पानी मांगता हे इसी तरह कार्बन भी मांगता है.
भले ही आपको यह सब बकवास लगे लेकिन यह बिलकुल सही बात है. पेड़ अपने लिए जरुरी चीज जेसे की पानी और केमिकल अपनी जड़ो के जरिये एक दुसरे को ट्रान्सफर करते है. मतलब पेड़ो की जड़ सिर्फ मेसेज ही ट्रान्सफर नहीं करती हे लेकिन आपस में एक दुसरे को जरुरी रशायण भी पहोचाते है. यानी की जंगले के सारे पेड़ एक दुसरे की मदद करते है. हमको भी पेड़ो से यह बात सीखनी चाहिए.
आपको एक और दुशरी शोकिंग बात बताता हु, क्या आपको पता है अगर जंगल में किसी पेड़ को सूरज का प्रकाश नहीं मिलता हे तो बाकि के पेड़ अपनी डालियो को वहा से थोड़ी हटा देते है जिससे उसको सूर्य का प्रकाश मिल सके. आपको यह बात हजम नहीं होगी बल्कि यह बिलकुल सच है. इसके लिए आप जिव विज्ञान पढ़ सकते है.
जेसे हम इन्सान अपने नए जन्म लेने वाले बालक की सारी जरुरत का ध्यान रखते है ठीक उसी तरह जब भी कोई नया पेड़ जन्म लेता है तो आसपास के सभी पेड़ इस छोटे से पेड़ की देखभाल के लिए जरुरी सारे रशायण और पानी पास करते हे ताकि उसका विकाश अच्छा हो. हमको भी पेड़ो के आपसी रिस्तो से कुछ सीखना चाहिए ताकि हम इन्सान सच में एक इन्सान बन सके और दुनिया में प्यार बढ़ सके.
हम ने जाना की पेड़ एक दुसरे की मदद करते हे और आपस में बाते भी करते लेकिन Do trees have feelings? क्या पेड़ के भी कोई इमोसन होते है? क्या वो सोच सकते है? Do trees think? हा बिलकुल, पेड़ की भी feelings होती है आप खुद ही अपने घर पर यह साबित कर सकते हो. इसके लिए आपको 2 छोटे पौधे लेने हे और एक पौधे को हर-रोज गालिया सुना कर पानी डालना और दुसरे को प्यार से पानी डालना कुछ दिनों बाद आप को दोनों पौधों के बिच का अंतर पता चल जायेगा और यह बात भी पता चलेगी की सच में trees have feelings.

Read also:-

दोस्तों, उम्मीद है आपको पेड़-पौधे आपस में बात करते हैं Do Trees Talk to Each Other? आर्टिकल पसंद आया होगा. अगर आपके मन में कोई सवाल या सुजाव हो तो मुझे कमेंट में जरुर बताना.

One Comment

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!