Dating school in china | चीन का वो School जहाँ Dating शिखाइ जाती है

Dating school in china – चीन का वो School जहा Dating शिखाइ जाती है 

dating school in china | चीन का वो School जहाँ Dating शिखाइ जाती है
Dating school in china
 
जैसे की हम सभी को पता है की पूरी दुनिया में चीन की आबादी सबसे ज्यादा है. इस बढती आबादी पर रोक लगाने के लिए वहा की सरकार ने कई सारे अलग-अलग कायदे कानून निकले है जिससे वो अपने देश की बढती आबादी पर रोक लगा सके.
लेकिन इसका एक उल्टा अशर चीन की आबादी पर ये हुआ है की वहा पर भी भारत की तरह लडको की तुलना में लड़की की आबादी कम है जिसकी वजह से हर एक लड़के को अपना जीवन साथी चुनने के लिए काफी संघर्स करना पड़ता है जिसके चलते चीन में कई सारी डेटिंग स्कूल खुली गई है. जिसमे लडको को लडकियो के तोर तरीके के बारे में सिखाया जाता है.
 
चलिए जानते हे इस आर्टिकल के माध्यम से चीन की डेटिंग स्कूल के बारे में.
Dating school in china – चीन का वो School जहा Dating शिखाइ जाती है
  1. कहा पर है यह Dating school in china
  2. कितनी होगी फीस
  3. क्या सिखाया जाता है Dating school in china की ट्रेनिंग में
  4. कोन एडमिसन ले सकता है
  5. Dating school in china के फायदे
चलिए जानते है “Dating school in china के बारे में विस्तार से.
कहा पर है यह स्कूल
यह स्कूल चीन की राजधानी बीजिंग में है जिसका नाम “लव एनर्जी” है. उनका कहेना है की डेटिंग एक परफेक्ट डांस की तरह हे जिसमे कपल को आपस में संतुलन बनाए रखना होता है और यह संतुलन बनाए रखना बेहद मुश्किल काम है इसके लिए ट्रेनिंग की जरुरत पड़ती है. इसी वजह से यह स्कूल का निर्माण किया गया है.  लव कोचिंग का क्रेज़ चीन में बहोत ही ज्यादा बढ़ता जा रहा है.

कितनी होगी फीस

लड़की रिझाने या पटाने वाले इस कोर्स की फीस सुनकर आपके होश उड़ जाएंगे. इस कोर्स की फीस है
4500डॉलर महीना है. यी कुई उर्फ मौका नामक व्‍यक्ति द्वारा चलाए जाने वाले इस स्‍कूल का नाम है “लव एनर्जी”. इस स्‍कूल की खास बात यह है कि क्‍लासरूम कोर्स के साथ ही लड़की पटाने का तरीका सिखाने वाला यह कोर्स ऑनलाइन भी कराया जाता है.

भारत को सोने की चिड़िया क्यों कहा जाता था?

हैरानी की बात यह है कि लव एनर्जी स्कूल में एडमिशन के लिए लंबी लाइन लगती है. इस में एडमिशन लेने वाले ज़्यादातर स्टुडेंट की उम्र 23 से 33साल की बीच होती हैं.
dating school in china | चीन का वो School जहाँ Dating शिखाइ जाती है
क्या सिखाया जाता है डेटिंग की ट्रेनिंग में
स्‍कूल में लड़कों का मेकओवर किया जाता है. उनके सोशल मीडिया प्रोफ़ाइल के लिए अच्छी तस्वीरें खींची जाती हैं. लड़कों को काबे डान नाम की जापानी तकनीकसिखाई जाती हैजिसमें किसी लड़की के पीछे दीवार पर हाथ रखकर उसे इम्प्रेस किया जाता है. ली कुईकहते हैं कि लड़के अक्सर लड़कियों से बात करने में हिचकते हैं. उन्हें खरी-खोटी सुनने का या अपमान होने का डर होता है.
वो कहते हैं कि डेटिंग एक परफेक्ट डांस की तरह है. अंतर्मुखी लड़के के लिए तो यह काम और भी ज्यादा चुनौति वाला हो जाता है क्यूंकि वो लड़कियों से प्यार की बातें करने से डरते हैं. इस चुनौती से निपटने के लिए उन्हें सही डेटिंग की ट्रेनिंग की ज़रूरत होती है.
कोन एडमिसन ले सकता है
यह स्‍कूल डेटिंग की ट्रेनिंग कोर्स ऑनलाइन भी चलाता है. ली कुई का कहना है कि दुनिया का कोई भी व्‍यक्ति उनके स्‍कूल में एडमिशन ले सकता है. क्‍लास रूम कोर्स की फीस 4500 डॉलर महीना है. वहीं ऑनलाइन कोर्स की फीस 30डॉलर महीना है.
प्यार की इस पाठशाला में लड़के खुश होकर जाते हैं और लड़कियों को पटाने के तरीके सीखकर अपनी ज़िंदगी में खुशहाली लाना चाहते है.
dating school in china | चीन का वो School जहाँ Dating शिखाइ जाती है

 

डेटिंग स्कूल के फायदे
·        लड़की से कैसे बात करनी है इसके बारे में पता चलता है.
·        डेटिंग के तोर-तरीके सिखने की वजह से लडकियो पर होने वाले अत्याचार में कमी आ सकती है.
·        सर्मिले लोग भी बहोत ही अशानिसे अपने दिल की बात बोल सकते है.
·        एक-दुसरे के साथ आगे बढ़ने में कम चुनोती का सामना करना पड़ता है.
·        दोनों साथी एक दुसरे को अच्छी तरह से समज सकते है और अपने दिल की बात अशानिसे बोल सकते है.
·        इस स्कूल से न सिर्फ लडको को फायदा होगा लेकिन लड़की को भी फायदा होगा की वो भी एक अच्छा जीवन साथी चुन सकती है.
फ़िलहाल तो यह स्कूल सिर्फ चीन में ही है लेकिन इस स्कूल के कोर्स की पोपुलारिटी को देखते हुए एसा लगता है की भारत में भी यह कोर्स शुरू हो सकता है.
 
यह भी पढ़े:-
  1. भारत के बारे संपूर्ण जानकारी
  2. वेस्टइंडीज देश नहीं है तो क्या है
  3. न्यूज़ीलैंड के बारे में जानकारी
  4. जापनियो की अनोखी आदते

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *