Facts about Dassault Mirage 2000 | मिराज 2000 के बारे में रोचक तथ्य
जैसा कि आप सभी को पता है 26 तारीख की रात के 3:48 AM भारत ने पाकिस्तानी आतंकवादियों के अड्डे पर बमबारी की उस में जो जहाज इस्तेमाल किया गया था उसका नाम था मिराज 2000(Dassault Mirage 2000). लेकिन क्या आप जानते हो इसकी ताकत और बनावट के बारे में ? इसे किसने और क्यों बनाया था ? तो आज के इस आर्टिकल में में आपको इसके बारे में साडी जानकारी देने वाला हु.


आपको पता ही होगा की भारत की वायुसेना को दुनिया की चौथी सबसे बड़ी वायुसेना माना जाता है.  फ़िलहाल भारत के पास लगभग 1720 से भी ज्यादा एयरक्राफ्ट हैं वही वायुसेना की बात करे तो इस में लगभग 40 मिराज विमान हैं. डसॉल्ट मीराज 2000  एक फ्रांसिसी लडाकू विमान है. जिसका निर्माण खास भारत के लिए किया गया था. इस विमान का निर्माण फ्रांसीसी मल्टीरोल, डबल-इंजन और डसॉल्ट से तकनिकी जानकारी लेकर भारत द्वारा किया गया था. लेकिन बाद में भारत ने इस विमान को अपनि तरफ से डिजाइन करवाया. मिराज 2000 को सबसे कुशल और प्रभावी तरीके से अधिकतम नुकसान पहुंचाने के लिए बनाया गया है. और यह ही बताता है कि भारत इस लड़ाकू जेट पर इतना अधिक विश्वास क्यों करता है.

Facts about Dassault Mirage 2000 | मिराज 2000 की क्या खूबियाँ हैं ?
Mirage 2000

मिराज 2000 के बारे में रोचक तथ्य
ü  मिराज 2000 ने पहली उड़ान 10 मार्च 1978 को भरी थी.
ü  इसे जुलाई 1984 में फ़्रांस वायुसेना में शामिल किया गया था.
üइस जहाज को Dassault Aviation कंपनी ने बनाया था जो कि एक फ्रांस की कंपनी है.
ü  मिराज 2000  पर भारत का बहुत ही ज्यादा विश्वास है क्योंकि मिराज 2000 ने कई बार भारत को पहेले भी युद्ध जीतने में मदद की हे.
ü  इस जहाज की अधिकतम गति 2,000  किमी प्रति घंटे की है.
ü  मिराज 2000  का उपयोग फ्रांसीसी वायु सेना, भारत की वायुसेना, ब्राज़ील, कतर, पेरू, संयुक्त अरब अमीरात वायु सेना, रिपब्लिक ऑफ चाइना एयर फोर्स जेसे कुछ ही देशो द्वारा किया जाता हे.

देश में पुलिस की वर्दी का रंग खाकी, तो कोलकाता में सफेद क्‍यों?

ü  मिराज 2000 सिंगल पायलट और डबल पायलट दोनों में उपलब्ध है.
ü  फ्रांस ने इस जहाज को इस तरीके से बनाया है कि हम इसका इस्तमाल कठिन जगहों पर भी बमबारी करने के लिए कर सकते हे.
ü  जेसे की हम जानते हे की किसी भी विमान को उडान भरने के लिए बहोत ही ज्यादा रनवे की जरुरत पड़ती है लेकिन मिराज 2000 की यह विशेषता है कि यह बहुत ही कम यानी की 400 मीटर या इससे कम के रनवे से भी उडान भर सकता है.
ü  भारत के पास फिलहाल 36 सिगल सीटर और ४ डबल सीटर मिराज 2000  हे.
ü  मिराज 2000  का रडार एक साथ दो से अधिक लक्ष्यों को टारगेट करने की क्षमता रखता और दुश्मनों के लिए इसके रडार को जाम करना असंभव है.
ü  इस जहाज में स्पेक्ट्रा सिस्टम टेक्नोलॉजी का उपयोग किया गया हे जीके चलते दुश्मन इस जहाज का सही पता नहीं लगा सकता हे और जहाज दुश्मन के इलाके से सुरक्षित निकल जाता है.
ü  इस विमान की एक खासियत यह भी है कि यह 2000 किमी प्रति घंटे की उड़ान के दौरान भी ड्राईवर की आवाज से नियंत्रण किया जाता हे क्योंकि इसके अन्दर आर्ट वॉयस रिकग्निशन सॉफ़्टवेयर का इस्तमाल किया गया हे.
ü  मिराज 2000  में दो  इंजन का इस्तमाल किया गया हे ताकि एक खराब होने की स्थिति में दूसरे का इस्तेमाल किया जा सके.
ü  मिराज 2000 जब पूरी तरह से लोड हो जाता है तो यह 30 मिमी रॉकेट, कई अलग-
     अलग प्रकार की मिसाइलें और लेजर-गाइडेड बम लेकर उड़ सकता है.
ü  मिराज 2000  की कीमत करीब 206 करोड़ के आसपास हे.


Read also:-

Why we Celebrate national Science day ?