Sarcosuchus: Largest Prehistoric Crocodile Ever | ये हे दुनिया का सबसे बड़ा मगरमच्छ जो डायनासोर को भी खा जाते थे

दुनिया का सबसे बड़ा मगरमच्छ जो डायनासोर को भी खा जाते थे | SarcosuchusLargest Prehistoric Crocodile Ever

 
ये हे दुनिया का सबसे बड़ा मगरमच्छ जो डायनासोर को भी खा जाते थे |Largest Prehistoric Crocodile Sarcosuchus
Sarcosuchus Facts in Hindi
 
पुरे ब्रह्मांड में हमारी धरती ही एक मात्र एसा ग्रह हैं जहाँ पर जीवन संभव हैं. हमारी इसी अनोखी दुनिया में कई सारे एसे-एसे जानवर हुआ करते थे जो देखने में बहोत ही खतरनाक थे, कई सारे घने जंगल, पेड़, पर्वत सभी समय समय के साथ बदलता रहा हैं. हमारी इसी पृथ्वी पर मानव जीवन की शुरुआत से पहले कई सारे विशालकाय जीवों ने इस धरती पर राज किया जिसमे मैमथ, डायनासोर का नाम सबसे पहले आता हैं.
हमारी धरती पर मिले कई सारे जीवों के अवसेसो से पता चलता हैं की पहले यहाँ पर कई सारे विशालका्य दानव जेसे जानवर हुआ करते थे. आज भले ही इन जीवों का अस्तित्व हमारी इस धरती पर मौजूद न हो लेकिन वैज्ञानिक मानते हैं की Prehistoric Period में जिन जानवरों ने धरती पर राज किया आज उसी जीवों का रूप आधुनिक दुनिया में मौजूद हैं.
अगर हम Crocodiles की बात करे तो यह आज भले ही हमारे सामने छोटे रूप में मौजूद हैं लेकिन करोड़ो साल पहले इन मगरमच्छ के पूर्वज बहोत ही विशालकाय और खतरनाक हुआ करते थे. इनके पूर्वज में सारकोसुकस(Sarcosuchus) नामक मगरमच्छ की प्रजाति हुआ करती थी जिन्हें Super Croc के नाम से जाना जाता था जो बहोत ही महाकाय थे. तो आजके इस आर्टिकल में में आपको Largest Crocodile की खतरनाक प्रजाति के बारे में बताने जा रहा हु.
चलिए जानते हैं Sarcosuchus: Largest Prehistoric Crocodile Ever आर्टिकल में
कौन से मुद्दे पर हम बात करने वाले हैं.
1.      Prehistoric Crocodile
      Sarcosuchus Food
3.      Classification
4.      पहैंलीबार कब मिला
ये हे दुनिया का सबसे बड़ा मगरमच्छ जो डायनासोर को भी खा जाते थे |Largest Prehistoric Crocodile Sarcosuchus
 
Prehistoric Crocodile
करीब 112 मिलियन साल पहले सारकोसुकस(Sarcosuchus) नाम के यह मगरमच्छ की प्रजाति हुआ करती थी, जिनकी लम्बाई करीब 12 मीटर यानि की 40 फीट के आसपास हुआ करती थी. यह Crocodiles की प्रजाति आज तक की सबसे बडी मगरमच्छ की प्रजाति थी. इस जीव के मिले अवशेष से पता चलता हैं की बाकी मगरमच्छ की तरह इस जीव में भी कमाल की काट ने की क्षमता थी. इसके Bite की ताकत 9 टन थी जोकि आज के मगरमच्छ की तुलना मे कई गुना अधिक हैं. इस का वजन 7 से 8 टन का था.

मैमथ हाथी के बारे में रोचक तथ्य

इन विशालकाय जीवों की दूरबीन जैसी आंखे थी और वे रात को भी अपने शिकार को आसानी से देख सकते थे. इस विशाल दानव के उपर के जबड़े में 35 दांत थे जबकि निचे के जबड़े में 31 दांत थे. इतने बड़े जबड़े वाले इस दानव की पकड़ में इतनी मज़बूती हुआ करती थी की यह जानवर इन्सान की 130 हड्डीया एक साथ कुचल सकता था. फंसे हुए शिकार का इसके चंगुल से निकल कर बचना नामुमकिन था. इस के अलावा इस जानवर की पुंछ भी इतनी विशाल थी की पानी में प्रवेश करने वाले किसी भी जीव को एक ही वार से घायल कर सकती थी. Geologist के मुताबिक यह जानवर आज के मगरमच्छ से काफी मिलता जुलता हैं लेकिन इसकी बनावट आजके घड़ियाल से बिलकुल भी अलग हैं.

Sarcosuchus Food

इस Super Croc की डाइट को लेकर कई सारे मत हैं लेकिन मिले हुए आवेश से पता चलता हैं की यह विशाल मगरमच्छ Dinosaur की कई सारी प्रजातियो को खाता था. लेकिन कम उम्र में मछलियों को अपना भोजन बनाकर गुजारा करता था और उम्र बढ़ने के साथ ही डायनासोर को अपने आहार में शामिल कर लेते थे. शोधकर्ताओ के मुताबिक यह Super Croc पानी से बहार निकल कर Dinosaur का शिकार करता था.
शोधकर्ताओ के मुताबिक एक बड़े और विकसित Super Croc में बड़े थेरोपोड डायनासोर की गरदन को तोड़ ने की क्षमता होती थी. Dinosaur का शिकार करने से हम इनकी ताकत का अंदाजा लगा सकते हैं की यह कितनी खतरनाक प्रजाति रही होगी.
ये हे दुनिया का सबसे बड़ा मगरमच्छ जो डायनासोर को भी खा जाते थे | Sarcosuchus: Largest Prehistoric Crocodile Ever
 

Classification

यह जीव ताजे पानी, नदी, झीलों पर रहते थे. यह जीव किसी भी मगरमच्छ से Directly जुड़े हुए नहीं हैं लेकिन आधुनिक मगरमच्छ घड़ियाल इसके दूर के पूर्वज हैं. जिनसे कई सारी विशेषताओं में यह मेल खाता हैं फिर भी किसी भी मगरमच्छ का आकार इतना विशालकाय नहीं हैं. इसका कारन समय और जल में आए बदलाव को माना जाता हैं.
ये हे दुनिया का सबसे बड़ा मगरमच्छ जो डायनासोर को भी खा जाते थे | Sarcosuchus: Largest Prehistoric Crocodile Ever
 

पहली बार कब मिला

भले ही इस 112 मिलियन साल पहले इस जीव का धरती पर से नाम-निशान मिट चूका हो लेकिन इस जीव से मिले अध्ययन में शोधकर्ता हमेशा ही रूचि रखते हैं. पहली बार इस जीव के बारे में सन 1950 में पता चला जब अलबर्ट फिलिक्स नाम के फ्रेच शोधकर्ता को सहारा के रन में इसके सिर, दांत जैसे कई नमूने हाथ लगे. इससे यह बात सामने आई की यह जीव उत्तरी आफ्रीका के इलाकों में रहा करते थे जहाँ आज सहारा रन पाया जाता हैं. उस समय यह इलाक़ो में घने जंगल हुआ करते थे और यह जानवर इसी तरह के वातावरण में ही रहना पसंद करते थे.

डायनासोर का अंत और इन्सानों का जन्म- जानिए पूरी कहानी

रिसर्च में चौक ने वाली बात सामने आई की यह जीव अपनी उम्र के साथ बढ़ता ही जा रहा था जब तक मर न जाए. यह भयानक जीव असल में कैसा दीखता होगा इसकी तो हम सिर्फ कल्पना ही कर सकते हैं. सदीओ पहले हुए जलवायु परिवर्तन में डायनासोर के साथ इस जीव का भी अस्तित्व मिट गया था.
लेकिन क्या आपने सोचा हैं अगर जलवायु परिवर्तन के समय इस जीव ने अपने आपको समय के बदलाव में ढाल दिया होता तो यह जीव आज हमारे सामने होता. अगर सच में यह दानव आज हमारे सामने होता तो क्या होता?, मानव जीवन के लिए यह दानव कितना खतरनाक होता इसकी कल्पना करना बेहद मुश्किल हैं.
दोस्तों, आपको Largest Prehistoric Crocodile Sarcosuchus के बारे में जानकारी केसी लगी हमे कमेंट करके जरुर बताए और साथ ही इस आर्टिकल को अपने दोस्तों के साथ शेयर करना न भूले. मिलते नए आर्टिकल में कुछ और रोमांचक और रोचक बातों के साथ.

2 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *