Mystery of Great blue hole in Hindi – समुद्र में बनी “ग्रेट ब्लू होल” गुफा का रहस्य

Great blue hole in Hindi – जाने “ग्रेट ब्लू गुफा” से जुडे रहस्यों के बारे में 

हमारी इस धरती कई तरह के रहस्यों से भरी पडी है, इसके अन्दर कई सारी एसी घटना भी होती रहती है जो किसी चमत्कार से कम नही होती है. इस धरती में बहोत सी एसी जगह भी है जिस पर आपको यकिन नही होगा की एसी भी कोई चीज इस दुनिया में मौजूद है.

आज हम एक एसे ही रहस्य के बारे में बताने जा रहे है जो अविश्व्नीय है, जिस पर आपको बिल्कुल भी यकीन नही होगा. यह जगह का नाम है “ग्रेट ब्लू होल गुफा”(Great blue hole in Hindi) जो समुद्र के बिचो बीच गोलाकार आकर में बनी हुई है.

इसके नज़ारे को देखने के लिए दुनियाभर से लोग यहाँ पर आते है, इतना ही नही बल्कि लोग इस जगह पर स्कूबा डाईविंग करते है. इस गुफा का व्यास 318 मीटर और गहराई 125 मीटर है.

समुद्र में बनी "ग्रेट ब्लू होल" गुफा का रहस्य - Mystery of Great blue hole in Hindi

चलिए जानते है समुद्र में बनी “ग्रेट ब्लू होल” गुफा के रहस्य के बारे में.

माना जाता है की Great blue hole in Hindi का निर्माण करीब डेढ लाख साल से 15000 साल पहले हुआ था. इस समय यहाँ पर समुद्र का स्तर काफी कम था जिसके करण यह गुफा समुद्र के उपर दिखाई देती थी. बाद मे समुद्र के स्तर में बढोती के करण यह गुफा वापिस से डूब गई थी.

“ग्रेट ब्लू गुफा” चुने से बनी हुई है और इसके भीतर कई तरह की मछलियाँ अन्य समुद्री जीव की प्रजाति पाई जाती है. इस गुफा के अन्दर भी कईं सारी गुफाए मौजुद है.

इस रहस्यमई गुफा को दुनीया के सामने लाने का श्रेय फ्रांस के वैज्ञानिक जैक्स कॉस्टयू को दिया जाता है जिन्हो ने न सिर्फ इस जगह से पर्दा उठाया बल्कि इस जगह को स्कूबा डाइविंग की 5 शीर्ष जगह में घोसित भी किया.

सन 2012 में discovery channel ने पृथ्वी की 10 रहस्यमई जगह में Great blue hole in Hindi को सबसे पहला स्थान दिया था. यह दुनिया का सबसे बड़ा प्राकृतिक निर्माण है.

दोस्तो, आपको समुद्र में बनी “ग्रेट ब्लू होल” गुफा का रहस्य – Mystery of Great blue hole in Hindi आर्टिकल अच्छा लगा है तो इसको सभी जगह शेयर जरुर करे.

यह भी पढ़े:-

    1. दुनिया का सबसे खतरनाक और रहस्यमय जंगल
    2. दुनिया की रहस्यमई मुर्तिया
    3. अंडमान के आदिवासियों के बारे में जानकारी

Add a Comment

Your email address will not be published.