बुध ग्रह का कडवा सच | Facts about planet Mercury in hindi

बुध ग्रह का कडवा सच | बुध ग्रह के बारे में रोचक जानकारी | Facts about planet Mercury in Hindi


बुध ग्रह का कडवा सच | Facts about planet Mercury in hindi

Mercury यानि बुध ग्रह हमारे सौरमंडल का सबसे छोटा और सूरज की सबसे नज़दीक वाला ग्रह है. Mercury हमारी धरती से करीब 7 करोड़ 70 लाख किलोमीटर की दूरी पर स्थित है. यह हमारे शुक्र ग्रह के बाद सौरमंडल का दूसरा सबसे गर्म ग्रह है. यह ग्रह सौरमंडल का सबसे छोटा और सूर्य की काफी नज़दीक होने के बावजूद भी इस के बारे में सबसे आखिर में पता चला था.

 

बुध ग्रह सूर्य की परिक्रमा करने मे लगभग 88 दिन लेता है. आज के इस आर्टिकल में हम आपको बताने वाले है की आखिर बुध ग्रह पर जाना क्यों मुश्किल काम था? बुध ग्रह के बारे में सारी जानकारी और रोचक तथ्य आपको इस आर्टिकल में मिलने वाला है. तो चलिए बात करते है बुध ग्रह के बारे में.

 

बुध ग्रह का कडवा सच | Facts about planet Mercury in hindi

20 जुलाई 1969 को पहेली बार मानव ने चंद्र पर कदम रखा था. इस वक्त जब हम चाँद पर सफलता पूर्वक पहुँच गए थे, तब हमारे पास Mercury पर जाने की कोई सटीक गणना नहीं थी जब की हम सौरमंडल के आखिरी ग्रह नेप्च्यून तक पहुचने के लिए स्पेस यान भेज चुके थे. आखिर बुध पर स्पेस जहाज़ भेजना क्यों मुश्किल था?

 

बुध के बारे में जानकारी नहीं जुटा पाने के पीछे 2 कारन थे. पहला इसका सबसे छोटा आकार और दूसरा इसका सूरज के काफी नजदीक होना जिनके कारन इसके करीब जाना ख़तरों से खाली नहीं था. इसके अलावा एक और ख़तरा भी था की अगर बुध ग्रह के लिए स्पेस भेजा गया तो वो सूरज के गुरुत्वाकर्षण के कारन काफी तेज़ हो जायेगा और बुध ग्रह को मिस करके तबाह हो जायेगा. इसके लिए इसकी पूरी जानकारी होना आवश्यक था.

 

3 Nov 1973 को नाशा ने Mariner 10 नामक space स्पेस को रवाना किया जिसका उद्देश्य था शुक्र के ऑर्बिट को परखना. Mariner 10 बुध के करीब से तीन बार गुजरा और इस मिशन में नाशा को बुध ग्रह के सिर्फ 45% हिस्से के बारे में ही तस्वीर मिली वो भी कम resolution वाली. लेकिन Mariner 10 के जरिये पहेली बार बुध ग्रह को क़रीबी से देखा और इसके बारे में जानकारी हासिल की.

 

Mercury  पर उतरने पर यह बिलकुल हमारे चाँद जैसा ही लगता है लेकिन हम यहाँ पर उतर नहीं सकते थे क्योंकि दिन के समय इसके सतक का तापमान 430 सेल्सियस का होता है और रात में यह तापमान गिर कर -180 सेल्सियस हो जाता है. Mariner 10 के जरिये बुध ग्रह के बारे में बहुत कुछ जाना लेकिन यह डेटा Mercury पर पहुँच ने के लिए काफी नहीं था.

 क्या सच में धरती अंत के करीब जा रही हे?

इसी वजह से 3 August 2004 को “Messenger”  नामक जहाज को भेजा गया. यह बुध ग्रह पर भेजने वाला पहेला मिशन था. 18 March 2011 को Messenger स्पेस यान सफलता पूर्वक बुध ग्रह पर उतरा और सन 2012 तक इसका उद्देश्य पूर्ण हुआ. फिर 30 April 2015 को इस स्पेस को बुध से टकरा कर इस मिशन का अंत कर दिया गया. Messenger स्पेस जहाज की मदद से हमको बुध के 90% हिस्सों के बारे जानकारी मिल चुकी थी.

 

इस मिशन में एसी जानकारी मिली जिससे वैज्ञानिक चोंक गए थे. नाशा को पता चला की बुध का कोर इसके आकार की तुलना में काफी बड़ा है यह एक अजीब बात थी क्योंकि इतने छोटे ग्रह का इतना बड़ा कोर हो ही नहीं सकता था. इसी लिए वैज्ञानिकों ने अनुमान लगाया की बुध ग्रह पहले बहुत बड़ा ग्रह होगा लेकिन किसी दुसरे पिंड के साथ टकराव के कारन इसका अधिकांश भाग नष्ट हो गया होगा.

 

20 Oct 2018 को ESA(European Space Agency)और Jaxa(Japan Aerospace Exploration Agency) ने मिलकर “Bepi Colombioनामक स्पेस यान को बुध के लिए रवाना किया. यह Space craft  सन 2025 तक Mercury ग्रह पर पहुँच जायेगा और अपना काम शुरू कर देगा और इसके बारे में और ज्यादा जानकारी हासिल होगी.

 


बुध ग्रह का कडवा सच | Facts about planet Mercury in hindi

चलिए जानते हे Mercury ग्रह के कुछ रोचक तथ्य के बारे में.

1)     बुध पर आपका वजन पृथ्वी पर आपके वजन का 38% होगा.

2)     बुध ग्रह का पता आज से करीब 5000 वर्ष पूर्व सुमेरी सभ्यता के लोगों ने लगाया था.

3)     बुध ग्रह सूर्योदय के ठीक पहले और सूर्यास्त के ठीक बाद देखा जा सकता है.

4)     बुध ग्रह के दिन और रात के तापमान में बहुत बड़ा अंतर होता है. बुध पर दिन के वक्त तापमान 430 सेल्सियस का होता है और रात में यह तापमान गिर कर -180 सेलिस्यस हो जाता है.

5)     प्राचीन रोम के लोग बुध ग्रह को देवताओं का संदेशवाहक कहते थे क्योंकि यह अंतरिक्ष में काफी तेज़ी से गति करता है.

6)     बुध ग्रह का अंग्रेज़ी नाम ‘Mercury’ नाम है. यह एक रोमन देवता के नाम पर रखा गया है लेकिन इसकी खोज किसने और कब की इसके बारे में किसी को आजतक कोई भी जानकारी नहीं है.

7)     बुध ग्रह का गुरुत्वाकर्षण बहुत ही कमजोर हे इसी वजह से इसका कोई उपग्रह नहीं है.

8)     बुध ग्रह का 1 साल 88 दिन का होता है.

9)     बुध ग्रह की सतह पृथ्वी की सतह से 3 गुना मोटी है.

10)बुध सौर मंडल का सबसे तेज ग्रह है, जो लगभग 29 मील प्रति सेकंड की गति से और सूर्य के चारों ओर प्रत्येक परिक्रमा को केवल 88 पृथ्वी दिनों में पूरा करता है.

 

उम्मीद है आपको Facts about planet Mercury in hindi आर्टिकल पसंद आया होगा. अगर आपके मन में इससे जुड़े कोई सवाल है तो हमें कमेंट करके जरुर बताना और एसी ही जानकारी को अपने ईमेल में प्राप्त करने के लिए इस ब्लॉग को सब्सक्राइब करे.


Read also:

 

No comments:

Powered by Blogger.